*जागो समाजबंधू जागो*

*जागो समाजबंधू जागो*

*जागो समाजबंधू जागो*
आपको सभी को ज्ञात हे कि प्रथ्वीराज चोहान ने मुस्लिम आक्रांता मूहमम्द गोरी को कितनी ही बार नजर अंदाज किया जिसका परिणाम अंत मे क्या रहा हम सभी जानते हे।
मैरे उदाहरण देने का तात्पर्य वर्तमान से हे, जहाँ हमारे व्यवसाय को ओर हमारी पहचान को छिनने की कोशीश जारी हे,अगर ऐसा ही चलता रहा तो हमारी पहचान को नजरअंदाज करना ओर अपने अधिकारो को सहेज कर ना रखना ,हमारे समाज को चोहान बनने से कोई नही रोक पाएगा ,।इसलिए मत चुको बंधूओ ,इसके परिणाम हमारी पहचान को समाप्त कर सकते हे ।
अब आता हू असली बात पर।
वर्तमान मे हमारे व्यवसाय के लिए गभीर बने ओर शासन की योजनाओं का लाभ हम केसे ले सकते हे ,अपने सामाजिक सगंठनो द्वारा जो हमारे क्षेत्र के विकास ओर भविष्य रक्षार्थ सक्रिय भुमिका मे हे।
अभी वर्तमान मे एक वाक्या सामने आया हे,कि जो शासन की योजनांतर्गत परिचय कार्ड यानी आर्टीजन के लाभो को हम अपने सामाजिक सगंठनो के माध्यम से ले सकते हे निशूल्क रुप से, तो हम अपने सगंठनो के माध्यम से ले ना कि किसी अन्य वर्गो द्वारा जिन्होने अपने हितो के हमारे समाज को अंधकार मे रखकर 47 दिनो तक अपने कार्यो से वंचित रखकर हडताल की आग मे झोक दिया था।
जितनी भी शासन की योजनाएं हे ओर हम अपने सामाजिक सगंठनो के प्रयास से ले सकते हे ,तो फिर अन्य वर्ग के सगंठनो के सदस्य बनकर क्यों ले।
इसलिए जागो बंधू जागो ओर अपने विवेक का इस्तेमाल कर ऐसे लोगो का विरोध करो जो इस प्रकार से अन्य वर्गो का सहयोग लेकर, ओर केवल अपने निजि स्वार्थो को पुरा करने हेतू ,अपने समाज के भविष्य को दाव पर लगाकर ,ऐसे कार्यो के सहभागी बने हे।
विचार आपेक्षित हे सभी सामाजिक सगंठनो से समाज का सर्वागीण विकास चाहते हे ना कि अन्य वर्गो की चापलुसी कर समाज के भविष्य को दाव पर लगाए।

Share this post